100+ Dosti shayari ( दोस्ती शायरी )

मोहब्बत बदल जाती हैं
वक़्त के साथ
रिश्ते टूट जाते हैं
वक़्त के साथ
एक दोस्ती ही हैं
जो कभी टूटती ही नहीं
वक़्त के साथ

डरते हैं सपनो से, कही पुरे न हो पाए
डरते हैं आग से कही जल न जाए
पर सबसे जादा हम डरते हैं दोस्तों से
कही वो हमे न भूल जाए

इश्क नहीं दोस्ती महान हैं
जानना हैं तो
दिलजलो से पूछो

मोहब्बत गुनाह हैं तो होने मत देना
अगर दोस्त खुदा हैं तो कभी खोने मत देना
जब करनी हो मोहब्बत
तो दोस्ती छोड़ मत देना

लोग पूछते हैं तुम अब कैसे खुश हो
पर वो जानते ही नहीं
मेरी ख़ुशी तो मेरे दोस्तों में हैं

कभी ज़िन्दगी में दो पल मिले
तो बैठकर सोचना
यकीन मानो
तुम्हे सिर्फ अपने दोस्त ही नज़र आयेंगे

दोस्ती की कोई वजह नहीं होती
दोस्ती में कोई बात बेवजह नहीं होती
दोस्ती की नीव जरुरत नहीं होती
इसलिए मोहब्बत दोस्ती से जादा प्यारी नहीं होती

रिश्ते तो बहुत निभाए हैं हमने
पर दोस्ती सा कोई रिश्ता नहीं देखा
अपनों को साजिश करते हैं देखा
और दोस्तों को अपने लिए पिटते हैं देखा

दोस्ती का कोई अंदाज़ा नहीं होता
ये तो एक ऐसा घर होता है
जिसका को दरवाजा नहीं होता

बस एक ही दुआ करता हु
मैं अपने दोस्त के लिए
कभी मेरे दोस्त को
किसी की दुआ की जरुरत न पड़े

2 thoughts on “100+ Dosti shayari ( दोस्ती शायरी )”

  1. 😍😍😍😍 wa waa waa waa!!..
    Ma’am , apne to rula hi diya…dosti ke har pehloo ko likh diya aapne…loved it !!will definitely share this with my friends.

    Reply

Leave a Comment