100+ Dosti shayari ( दोस्ती शायरी )

पार्टी के लिए कपडे नहीं तो
कोई बात हैं
जब तक दोस्त हैं
उनके आगे पार्टी की कोई औकात नहीं

याद करते हो तो दोस्ती निभाते रहना
मुझे भी याद करना और याद आते रहना

हम रहे या न रहे
याद की जाएगी अपनी दोस्ती

अगर समझनी हैं
दोस्ती तो करके देखो
और अगर देखनी हैं दोस्ती
तो निभाकर देखो

ऊपर वाले ने
परिवार चुनने का मौका तो नहीं दिया
पर दोस्त चुनने का मौका जरुर दिया हैं
इसलिए दोस्ती से पहले परखे जरुर

कभी कभी रुला देते हैं यार
कुछ ऐसी बात कह देते हैं यार
ऐसा लगता हैं जैसे
सिर्फ हमारे लिए ही आये हैं
धरती पर दोस्त यार

कुछ ऐसे लम्हे देखे हैं मैंने
जब दोस्तों को परखने का मौका मिला
पता चला जिन्हें दोस्त मानता था
वो दोस्त नहीं बल्कि मतलबी निकली

रास्ते अलग हुए हैं
पर दोस्ती ख़तम नहीं हुई हैं
आज भी अगर एक बार आवाज दोगे
तो दौड़े चले आयेगे

दोस्ती मजबूत होती हैं
लगातार निभाए जाने पर
इसलिए आसानी से
विशवाश किया जाता हैं
एक दोस्त का दुसरे दोस्त पर

कभी सच्ची दोस्ती को
रिश्तो से मत तौलना
रिश्ते भगवान् बनाते हैं
पर दोस्त हम खुद बनाते हैं

2 thoughts on “100+ Dosti shayari ( दोस्ती शायरी )”

  1. 😍😍😍😍 wa waa waa waa!!..
    Ma’am , apne to rula hi diya…dosti ke har pehloo ko likh diya aapne…loved it !!will definitely share this with my friends.

    Reply

Leave a Comment