}

Happy navratri 2021 | Navratri Images | Navratri wishes shayari

चंद्रघंटा माता : नवरात्र के तीसरे दिन को माता चंद्रघंटा जी का दिन होता है।

मां चंद्रघंटा देवी का यह स्वरूप परम शांति दायक और कल्याणकारी है इस देवी के मस्तक पर घंटे के आकार का आधा चंद्र है इसीलिए इन्हें चंद्रघंटा कहा गया है शास्त्रों के अनुसार जो भक्त मां चंद्रघंटा की आराधना करते हैं उनमें वीरता और निर्भयता के साथ ही सौम्यता और विनम्रता का विकास होता है इनके शरीर का रंग सोने के समान चमकीला है अपने इस स्वरूप में माता देवकरण संतों और भक्त जन के मन को संतोष प्रदान करती है।

 मां चंद्रघंटा अपने प्रिय वाहन सिंह पर बैठकर अपने 10 हाथों में खड़क तलवार ढाल गधा पास त्रिशूल चक्र धनुष भरे हुए तरकस लिए मंद मंद मुस्कुरा रही होती है मां चंद्रघंटा की पूजा करने से भक्तों के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और जन्म-जन्म का डर खत्म हो जाता है और भक्त निर्भय बन जाता है आइए जानते हैं इनकी पावन कथा क्या है। 

प्राचीन समय में देवताओं और असुरों के बीच लंबे समय तक युद्ध चला असुरों का स्वामी महिषासुर था और देवताओं के स्वामी इंद्र थे महिषासुर ने देवताओं पर विजय प्राप्त कर इंद्र का सिंहासन हासिल कर लिया और स्वर्ग लोक पर राज करने लगा इसे देखकर सभी देवता गण परेशान हो गए और इस समस्या से निकलने का उपाय जानने के लिए त्रिदेव ब्रह्मा विष्णु और महेश के पास गए देवताओं ने बताया कि महिषासुर ने इंद्र चंद्र सूर्य वायु और अन्य देवताओं के सभी अधिकार छीन लिए हैं और उन्हें बंधक बनाकर स्वर्ग लोक का राजा बन गया है देवताओं ने बताया कि महिषासुर के अत्याचार के कारण अब देवता पृथ्वी पर विचरण कर रहे हैं और स्वर्ग में उनके लिए कोई जगह नहीं है। Happy Navratri 2021

यह सुनकर ब्रह्मा विष्णु और भगवान शंकर को बहुत गुस्सा आया तीनों देवता के गुस्से की कोई सीमा नहीं थी गुस्से की वजह से तीनों के मुख से उर्जा उत्पन्न हुए और देव गणों के शरीर से निकली उर्जा भी उस उर्जा में जाकर मिल गई दसों दिशाओं में व्याप्त होने लगी तभी वहां एक देवी का अवतरण हुआ भगवान शंकर ने देवी को त्रिशूल और भगवान विष्णु ने चक्र प्रदान किया इसी प्रकार अन्य देवी देवताओं ने भी माता के हाथों में अस्त्र शास्त्र सजा दे इंद्र ने भी अपना वज्र और ऐरावत हाथी से उतार कर एक घंटा दिया सूर्य ने अपना तेज और तलवार दिया और सवारी के लिए शेर दिया तभी उनका नाम चंद्रघंटा पड़ा।

अब देवी महिषासुर से युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार थी उनका विशालकाय रूप देखकर महिषासुर यह समझ गया कि अब उसका काल आ गया है महिषासुर ने अपनी सेना को देवी पर हमला करने को कहा और दानवों के दल भी युद्ध में कूद पड़े लेकिन देवी ने एक ही झटके में दानवों का संहार करती युद्ध में महिषासुर मारा गया साथ में अन्य बड़े दानव और राक्षसों का भी संघार हो गया इस तरह मां ने सभी देवताओं को असुरों से मुक्ति दिलाई तो यह थी माता चंद्रघंटा से जुड़ी कहानी। मां दुर्गा आप सभी की मनोकामनाएं पूर्ण करें जय माता दी। Navratri pictures, Happy Navratri 2021

Navratri pictures

Happy navratri images wishes,Happy navratri image,Happy navratri

माता सभी को दुलार करती
कष्टों से सभी को उबारती है
सभी करते हैं उनकी आरती
जय चंद्रघंटा माता रानी की

हे माता तुमसे विश्वास उठने ना देना
बन के रौशनी तुम रह दिखा देना
बिगड़े काम बना देना
जय चंद्रघंटा माता रानी की

Navratri wallpaper

दूर की सुनती है माँ, पास की सुनती है माँ
माँ तो आखिर माता होती है,
हर भक्त की सुनती है माँ

1…2…3….4.. माता रानी की जय जयकार,
इस नवरात्रिि आपकी हर मनो कामना माता रानी पूरी करे.
!!…जय माता दी…!!
!!…हैप्पी नवरात्र…!!

Leave a Comment